ब्लड डोनेशन कैम्प में 100 यूनिट ब्लड एकत्र

पंचकूला। विश्वास फाउंडेशन ने पंचकूला नगर निगम के सहयोग से सेक्टर 14 स्थित नगर निगम के ऑफिस के बाहर शनिवार को रक्तदान शिविर आयोजित किया ।  कैम्प में कुल 100 यूनिट ब्लड एकत्र हुआ। शिविर का उद्घाटन पंचकूला एमसी के कमिश्नर राजेश जोगपाल ने किया। उन्होंने रक्तदानियों को बैज लगाकर उनका हौसला बढ़ाया। इस अवसर पर एमसी के एग्जिक्यूटिव अफसर जरनैल सिंह और विश्वास फाउंडेशन की जनरल सेक्रेटरी साध्वी नीलिमा विश्वास ने भी रक्तदान करने वालों की हौसलाफजाई की और एमसी इंप्लाइज को रक्तदान करने के लिए प्रेरित किया।

विश्वास मेडिटेशन की ओर से आयोजित यह 2019 का पहला रक्तदान शिविर था। संगठन की ओर से साल 2018 में 29 रक्तदान शिविर लगाए गए थे। डी.सी. ऑफिस, सेक्टर 1 और बी.के.एम. विष्वास स्कूल में 11 दिसंबर को लगाया गया साल 2018 काअंतिम कैम्प था। विश्वास फाउंडेशन की तरफ से पीजीआई ब्लड बैंक सोसायटी के सहयोग से साल2018 में आयोजित 29 रक्तदान शिविर में कुल 4528 पार्टिसिपेंट्स में से 3450 ने रक्तदान किया। विश्वास फाउंडेशन की ओर से अब तक कुल 84 रक्तदान शिविर लगाए जा चुके हैं। इनमें कुल 13972 पार्टिसिपेंट्स रहे। इनमें से 11,825 ने रक्तदान किया।

आज हुए रक्तदान शिविर में एसबीआई इंस्टीट्यूट ऑफ लर्निंग एंड डेवलपमेंट में बैंक पी.ओ-2018 की ट्रेनिंग ले रहे युवा भी रक्तदान करने पहुंचे। इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर प्रदीपकौशल का कहना है कि इंस्टीट्यूट के 30 युवाओं ने वोलंटरी रक्तदान किया।

रक्तदान शिविर में मुख्य अतिथि कमिश्नर राजेश जोगपाल ने रक्तदाता लोगों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि रक्तदान कर वे अपनी जिंदगी में समाज के हित में सबसे बड़े पुण्य का कार्य कर रहे है। ऐसे नेक कार्य करने से मन को संतुष्टि ही नहीं मिलती अपितु जीवन की वास्तविक सार्थकता भी सिद्ध हो रही है। उन्होंने कहा कि वैज्ञानिक स्तर पर भी अभी तक रक्त का दूसरा विकल्प सिद्ध नहीं हुआ है। केवल रक्त से ही सड़क दुर्घटनाओं में घायल लोगों के जीवन में रोशनी लाई जा सकती है। उन्होंने कहा कि अच्छी बात है कि इस पुण्य कार्य के लिये अनेक संस्थायें भी आगे आ रही है। ईओ जरनैल सिंह ने रक्तदाताओं से बातचीत करते हुये कहा कि रक्तदान करने की दिशा में कई भ्रांतियां पैदा होती है कि रक्तदान करने से शरीर में खून की कमी से कमजोरी आ जाती है, लेकिन वैज्ञानिक स्तर पर यह सिद्ध हो गया है कि दो तीन दिन के अंदर ही जितनी शरीर को खून की आवश्यकता होती है, उसकी पूर्ति हो जाती है। उन्होंने विश्वास फाउंडेशन संस्था की ओर से आयोजित रक्तदान शिविर की सराहना करते हुए कहा कि समाज के हित में यह प्रयास सराहनीय है। अन्य संस्थाओं को भी उनके मार्ग का अनुसरण करते हुए इस प्रकार के रक्तदान शिविर आयोजित करने के लिए आगे आना चाहिए ताकि बढती खून की मांग को पूरा किया जा सके।

error: Content is protected (Copyright)