पंजाब सरकार का साल 2020-21 का बजट वित्तमंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने पेश किया। यह पंजाब की कांग्रेस सरकार का चौथा बजट है। बजट पर दिल्ली में आम आदमी पार्टी की जीत का भी असर देखने को मिल सकता है। ऐसा इसलिए भी है कि दिल्ली में जीत के बाद आप का लक्ष्य अब पंजाब विधानसभा चुनाव है।

कृषि क्षेत्र के लिये 12526 करोड़, शिक्षा के लिए 13092 करोड़, सेहत के लिए 4675 करोड़, पिछड़ा वर्ग व सामाजिक सुरक्षा के लिए 901 करोड़, महिला बाल विकास के लिए 3498 करोड़, खेलों के लिए 270 करोड़, फरीदकोट में अंडर ग्राउंड पाइप के लिए 100 करोड़, औद्योगिक बिजली सब्सिडी के लिए 2267 करोड़ का प्रावधान, गुरु तेग बहादुर जी के 400वें प्रकाश पर्व के लिए केवल 25 करोड़ की टोकन मनी का ऐलान किया गया है।

किसानों की ओवरऑल कर्ज माफी के लिए बजट में 2000 करोड़ का और लवारिस पशुओं के प्रबंधन के लिए बजट में 25 करोड़ का प्रावधान है। 12वीं कक्षा तक सभी बच्चों को मुफ्त शिक्षा का ऐलान किया गया है। मेक इन पंजाब के कानून बनाने की घोषणा की गई है। तीन मेगा औद्योगिक पार्क बनाने का प्रस्ताव रखा गया है। लुधियाना, बठिंडा और फतेहगढ़ साहिब में यह पार्क बनेंगे।