सिटी न्यूज7 /पंचकूला। शहर में पूरी तरह से अवैध रूप में चल रहे पीजी (पेइंग गेस्ट) पर एचएसवीपी और नगर निगम ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। ये कार्रवाई चंडीगढ़ में पिछले दिनों सेक्टर 32डी में पीजी हाउस में हुई आगजनी में तीन युवतियों की मौत के बाद की गई है। जानकारी के अनुसार, निगम ने पंचकूला में दो टीमें और एक-एक टीम कालका और बरवाला एरिया में लगाई है, जो मुखबरी के आधार पर गली-मोहल्लों में चक्कर लगाती कि किस घर में पीजी चल रहे हैं। बताया गया कि निगम की पंचकूला स्थित दोनों टीमों ने करीब डेढ़ दर्जन घरों में पीजी चलने की पुष्टि करते हुए आला अफसरों को रिपोर्ट दे दी है।
उधर, एचएसवीपी ने भी करीब आधा दर्जन मकान मालिकों को एचएसवीपी एक्ट के तहत नोटिस जारी किए हैं। बता दें कि हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के अलॉटमेंट रूल्स में रिहायशी प्लॉटों में पीजी नहीं चलाए जा सकते। नियमानुसार, कुछ ट्रेड्स/प्रोफेशंस को आंशिक रूप से मंजूरी देने का प्रावधान है लेकिन उसमें पीजी कवर नहीं होते। लिहाजा, इस्टेट ऑफिस सीमित संसाधनों के बावजूद शहर में अवैध रूप से चल रहे पीजी पर शिकंजा कस रहा है। जिस ब्रांच के जिम्मे सर्वे की जिम्मेदारी, वहां मात्र 3 जेई और उनके पास कोर्ट केसेज़ समेत कई काम रहते हैं।