एचएसवीपी में इस्टेट आफिसर की कुछ शक्तियां काट कर दी गईं प्रशासक को व आईटी विंग की सीसीएफ को

पीसीएन7 ब्यूरो, पंचकूला। जिस तरह रेलवे में एक्स्ट्रा पैसे खर्च करके तत्काल टिकट बुक हो सकती है, वैसे ही अब इस्टेट आफिस में बायोमीट्रिक अटेंडेंस भी तत्काल लगवाई जा सकेगी। इसके लिए अलाटी को एपाइंटमेंट सिर्फ ऑनलाइन २5 हजार रूपए फीस भरने पर ही मिलेगी। इसके लिए एचएसवीपी अगले कुछ दिनों में सॉफ्टवेयर में प्रोवीज़न कर देगा।
जानकारी के अनुसार, नई व्यवस्था पीपीएम में डाटा करेक्शन विषय पर लिए गए कुछ नए फैसलों के तहत की गई है। मुख्यालय ने तय किया है कि कोई भी अलाटी प्लाट व प्रापर्टी मैनेजमेंट संबंधी डाटा में करेक्शन या अपडेशन के लिए ऑनलाइन आवेदन देगा। इसके लिए जल्द सॉफ्टवेयर में प्रोवीज़न हो जाएगा। कोई भी आवेदन किसी भी आफिस में ऑफलाइन नहीं लिया जाएगा। हरेक आवेदन पर संबंधित इस्टेट आफिस से प्रोसेस होकर सात दिन के भीतर सक्षम अथारिटी लेवल पर फैसला लेकर डाटा अपडेट कर दिया जाएगा। अब ऐसा भी प्रावधान होगा कि अलाटी की डेथ के मामले में एचएसवीपी का सॉफ्टवेयर रजिस्ट्रार डेथ्स एंड बर्थ के पोर्टल के साथ लिंक रहेगा और इस्टेट आफिसर डाक्युमेंट्स की ऑनलाइन वेरीफिकेशन करके जरुरी एक्शन ले सकेंगे।

इस मामले में पंचकूला सिटी न्यूज़7 का सुझाव है कि एचएसवीपी मुख्यालय को चाहिए कि जब तक डाटा बेस तैयार नहीं होता, आईटी विंग को डायरेक्षन दी जाए कि सक्षम अथारिटी से जो भी केस ओके होकर आए, 24 घंटे के भीतर क्लीयर करे और बेवजह आब्जेक्शंस न लगाए। ऐसा इसलिए जरुरी है कि लास्ट में काम तो आईटी विंग ने ही करना और उस पर शिकंजा कसना जरुरी है, वर्ना….अलाटी परेशान होंगे ही।

  • सक्षम अथारिटी से अप्रूवल के बाद पोजेशन इंट्रस्ट की अपडेशन अब प्रशासक करेंगे।
  • एक्चुअल डेट ऑफ पोजेशन में अपडेशन/चेंज अब मुख्यालय स्तर पर अर्बन ब्रांच करेगी।
  • अलॉटी के नाम में कुछ जमा या घटा अथवा स्पेलिंग चेंज आदि अब प्रशासक करेंगे।
  • डुप्लीकेट पेमेंट, डीलिशन/मिसिंग पेमेंट शेड्यूल अब मुख्यालय स्तर पर सीसीएफ करेंगे।
  • पेमेंट हेड में बदलाव अब मुख्यालय स्तर पर सीसीएफ करेंगे।
  • एक्सटेंशन फीस की अपडेशन और एक्सटेंशन पालिसी में गलत वसूली अब प्रशासक देखेंगे।
  • रेट ऑफ अलाटमेंट में अपडेशन/चेंज अब मुख्यालय स्तर पर सीसीएफ करेंगे।
  • किसी कंपनी, फर्म, इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर/पार्टनर के नाम में बदलाव अब अर्बन ब्रांच करेगी।
  • सक्षम अथारिटी से अप्रूवल के बाद जीरो पीरियड इंट्रस्ट की अपडेशन अब सीसीएफ करेंगे।
  • रिज्मशन और रिस्टोरेशन की अपडेशन अब मुख्यालय स्तर पर अर्बन ब्रांच करेगी।

इस बीच हरियाणा स्टेट प्रापर्टी डीलर्स वेलफेयर एसोसिएशन के उपप्रधान अनूप सिंह ने कहा है कि एचएसवीपी मुख्यालय के स्तर पर तय तत्काल बायोमीट्रिक अटेंडेंस के लिए फीस 25 हजार रूपए बहुत ज्यादा है। इसे घटाकर 10 हजार रूपए करना चाहिए। इससे पहले ट्रांस्फर परमिशन के एवज में एडमिनिट्रेटिव चार्जेस 13 हजार रूपए तय हैंं। अलाटियों को सुविधा देना ठीक पर फीस कम होनी चाहिए।