Special

निगम के 4 अफसरों को 25-25 हजार जुर्माने का नोटिस

panchkula-mainमसला: डॉ. बी.एल. टंडन द्वारा आरटीआई में मांगी तीन जानकारियों का

कपिल चड्ढा. पंचकूला। पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट से हाल ही में फजीहत करवा चुके नगर निगम पर एक और गाज आ गिरी है। निगम के एसई डी.के. मंगला समेत चार अफसरों पर 25-25 हजार रुपए जुर्माना ठोकने का नोटिस जारी किया है। इनमें दो अभी कार्यरत और दो ट्रांसफर हो चुके हैं।
यह नोटिस स्टेट इन्फॉर्मेशन कमिशन ने सेक्टर 4 निवासी डॉ. बी.एल. टंडन की शिकायत पर जारी किया है। टंडन ने कमिशन को बताया था कि निगम ने आरटीआई एक्ट के तहत उनके द्वारा मांगी गई जानकारी समय रहते पूरी नहीं दी और जो भी जानकारी दी गई, वह भी अधूरी थी। वजह, आॅफिस में रिकॉर्ड ही नहीं है।
स्टेट इन्फॉर्मेशन कमिश्नर हरियाणा हेमंत अत्री ने 30 जून के लिए अगली सुनवाई तय करते हुए कहा है कि पांचों संबंधित अधिकारी पर्सनली हाजिर हों। अगर ऐसा न हुआ तो मैरिट के आधार पर एक्स पार्टी फैसला सुना दिया जाएगा।
टंडन ने कमिशन के समक्ष अपनी शिकायत की पैरवी खुद की थी। उन्होंने बताया कि 30 नवंबर 2015 को निगम से मांगी गई जानकारी 3 नवंबर 2016 को कार्यकारी अधिकारी ने 10 महीने लेट दी थी। संबंधित जानकारी 3 मार्च 2017 और 10 अप्रैल 2017 को भी दी गई। उल्लेखनीय है कि 3 मार्च के जवाब में कार्यकारी अधिकारी ने दावा किया कि रिकॉर्ड के अनुसार कोई जांच नहीं हुई। वहीं, 10 अप्रैल के जवाब में कहा कि उनके कार्यालय में ऐसा कोई रिकॉर्ड उपलब्ध नहीं है। कमिशन ने सुनवाई के दौरान यह माना कि निगम में आरटीआई एक्ट को लागू करने के मामले में गंभीरता से काम नहीं किया जा रहा। 10 महीने बाद जवाब देना नगर निगम की घटिया कार्यशैली को प्रदर्शित करता है, जिसे हल्के से नहीं लिया जा सकता।
कमिशन ने टंडन का पक्ष सुनने के बाद आरटीआई एक्ट के तहत अरविंद बाल्यान, अनिल मेहता, डी.के. मंगला और राधेश्याम को शो कॉज नोटिस जारी किया है कि क्यों न उन्हें टंडन की शिकायत समय रहते अटेंड न करने पर 250 रुपए से 25 हजार रुपए तक का जुर्माना लगा दिया जाए। इसका जवाब 30 जून की सुनवाई में देना होगा।
इन अफसरों को हुआ नोटिस:
– अरविंद बाल्यान, कार्यकारी अधिकारी
-अनिल मेहता, एसई (करनाल ट्रांसफर हो चुके)
– डी.के. मंगला, एसई पंचकूला
-राधेश्याम, एक्सईएन (सोनीपत ट्रांसफर हो चुके)

*पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के जज जस्टिस अमित रावल ने पिछले दिनों ‘प्रदीप सिंह बनाम हरियाणा सरकार’ में नगर निगम की धीमी कार्यशैली पर तल्ख टिप्पणी करते हुए पिछले दिनों संबंधित अफसरों पर 5 लाख रुपए का जुर्माना ठोका और कहा था कि अदायगी संबंधित अधिकारी अपनी जेब से हरियाणा स्टेट लीगल सर्विसेज़ अथॉरिटी के पास जमा कराएंगे।
निगम से मांगा था डा. बी.एल. टंडन ने
– पार्कों की मेंटीनेंस को लेकर जारी फर्जी भुगतान के माामले में अर्बन लोकल बॉडीज़ विभाग के प्रधान सचिव और डीसी पंचकूला के आदेश पर हुई जांच में निगम के कमिश्नर द्वारा उच्च अधिकारियों को भेजी गई जांच रिपोर्ट की कॉपी। इस संदर्भ में शिकायत 5 अगस्त 2015 और 5 अक्टूबर 2015 को की गई थी।
– सेक्टर 15 में सड़क की रिकार्पेटिंग के मामले में ठेकेदार को बीसी लेयर (बिटुमेन कंक्रीट लेयर) के एवज में किए गए फाइनल बिल भुगतान की कॉपी।
– सेक्टर 4 में मकान नंबर 101, 129 और 1163 के सामने पार्क में बनाए गए रेन शेल्टर की इंस्टॉलेशन करने वाले ठेकेदार को किए गए फाइनल बिल भुगतान की कॉपी।