ईमानदारी की मिसाल दी होमगार्ड वालिंटयर रामदास ने

लौटाया सेक्टर-११ के डा. विनोद पंकज का ‘ई-दिशाÓ काऊंटर पर छूटा पर्स
सिटी न्यूज7
पंचकूला। भले ही आम बोलचाल में ….समय बहुत खराब चल रहा है, कहा-सुना जाता लेकिन कुछ लोग अभी भी हैं जो अपने आप में बेमिसाल हैं। इन्हीं में से हैं रामदास, जोकि बरवाला इलाके के रत्तेवाली गांव के रहने वाले और होमगार्ड वालिंटयर और इन दिनों जिला सचिवालय पंचकूला में ‘ई-दिशाÓ में कार्यरत हैं।
हुआं यूं कि सेक्टर-११ के रहने वाले डा. विनोद पंकज, मंगलवार की दोपहर करीब तीन बजे किसी काम से ‘ई-दिशाÓ गए थे। वहीं उनका पर्स छूट गया। पर्स में करीब ८०० रुपये की नगदी के अलावा कार का ड्राइविंग लाइसेंस समेत कुछ अन्य जरूरी कागजात थे। डा. पंकज घर आ गए और उन्हें करीब ६ बजे ध्यान में आया कि पर्स जेब में नहीं और याद करने पर यही लगा कि ….शायद जिला सचिवालय में ‘ई-दिशाÓ पर छूट/गिर गया होगा। तब तक छह बच चुके थे। सो देखने के लिए जाना बेकार था क्योंकि आफिस बंद हो चुका था। बुधवार की सुबह डा. पंकज ‘ई-दिशाÓ गए और वहां मौजूद होमगार्ड वालिंटयर रामदास से पूछा कि यहां कोई गुमशुदा पर्स तो नहीं मिला? जवाब में रामदास ने कहा कि पर्स उसके पास है लेकिन कोई पहचान बताई जाए ताकि वह लौटा सके। डा. पंकज ने पहचान बताई जो सही पाई गई। रामदास ने पर्स लौटाया तो भीतर सब कुछ ज्यों का त्यों मिला। डा. पंकज ने रामदास का धन्यवाद किया और डीजीपी (होमगार्ड) को लिखित रूप में रामदास की तारीफ की है।

error: Content is protected (Copyright)