Panchkula Special

एमडीसी सेक्टर 6 की प्लानिंग में हो रहा बदलाव, अब बनेगा हाई स्कूल

 

  पहले विधायकों के लिए कटे थे प्लॉट

लोकेश चड्ढा, पंचकूला। हुडा मनसा देवी कॉम्प्लेक्स के सेक्टर 6 की प्लानिंग में बड़ा बदलाव करने जा रहा है। पिछली सरकार ने जहां विधायकों और सांसदों को ‘खुश’ करने के लिए चौदह-चौदह मरले के प्लॉट काटे थे, अब हुडा वहीं एक हाई स्कूल और तीन इंस्टीट्यूशनल प्लॉट काटने जा रहा है। यह प्लानिंग करीब 12 एकड़ में की जा रही है। यानी, पिछली सरकार ने जिस बेश-कीमती 12 एकड़ जमीन को राजनीतिक उपयोग के लिए इस्तेमाल करने का सोचा लेकिन पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट से अड़ंगा लग जाने के बाद हाथ रोके थे, अब वही जमीन हजारों बच्चों के भविष्य की नींव संवारने समेत सैकड़ों को रोजगार देने का सबब बनने जा रही है।

जानकारी के अनुसार टाउन प्लानिंग विभाग ने मनसा देवी कॉम्प्लेक्स के सेक्टर 6 में पिछली सरकार में विवादों के घेरे में आई बेश-कीमती 12 एकड़ जमीन पर दो-दो एकड़ के तीन इंस्टीट्यूशनल साइट्स समेत एक हाई स्कूल की प्लानिंग करके फाइल मंजूरी के लिए हुडा मुख्यालय को भेज दी है। संभव है कि अगले कुछ दिनों में प्रस्तावित प्लानिंग पर सक्षम अथॉरिटी की मुहर लग जाएगी। इसके बाद राज्य सरकार उपरोक्त तीनों इंस्टीट्यूशनल साइट्स की अलॉटमेंट के बारे में सोच-विचार और हुडा स्कूल साइट की अलॉटमेंट के बारे में प्लानिंग शुरू करेगा। जाहिर है कि मनसा देवी कॉम्प्लेक्स के सेक्टर 6 की प्लानिंग में किए जा रहे इस बदलाव का असर आने वाले दिनों में मिलेगा।

इंस्टीट्यूशनल साइट्स के डेवलप होने पर न सिर्फ एरिया की रौनक बढ़ेगी, बल्कि बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार भी मिलेगा। इसी तरह स्कूल साइट पर स्कूल बनने के बाद हजारों बच्चों को अपना भविष्य संवारने के लिए प्लेटफॉर्म भी मिलेगा।

बताना जरूरी है कि पिछली सरकार ने मनसा देवी कॉम्प्लेक्स के सेक्टर 6 में हुडा की प्लानिंग में पहले से काटे गए एक-एक कनाल के 48 प्लॉट और हाई स्कूल साइट को खत्म करके विधायकों और सांसदों के लिए चौदह-चौदह मरले के करीब 100 प्लॉट काट दिए थे, जो मात्र अट्ठाईस-अट्ठाईस लाख रुपए में अलॉट किए जाने थे। उल्लेखनीय यह है कि जिन विधायकों और सांसदों को ये प्लॉट देने की लिस्ट जारी हुई, उनमें तत्कालीन व पूर्व विधायक और सांसद भी शामिल थे। इन्हें रियायती कीमत पर प्लॉट देने के पीछे तर्क दिया गया था कि इन लोगों को विधानसभा सत्र अटेंड करने के लिए चंडीगढ़ स्थित हरियाणा विधानसभा आना पड़ता, लेकिन रहने-ठहरने की दिक्कत पेश आती है। यह तर्क पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट ने सिरे से खारिज कर दिया था। इस संदर्भ में पंचकूला की एनजीओ समेत कुछ लोगों ने हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी जो विचार के लिए स्वीकार तो हुई ही, जनसाधारण के पक्ष में जीत दर्ज कर मिसाल भी बनी।