ज्ञानचंद गुप्ता से एक्सक्लूसिव बातचीत की ‘पंचकूला सिटी न्यूज7’ ने
कपिल चड्ढा/पंचकूला। शहर को आने वाले समय में चार नए फायर स्टेशन और मिलेंगे। यानी, अब तक सेक्टर 5 के एकमात्र फायर स्टेशन पर निर्भर पंचकूलावासियों को अपने-अपने एरिया के करीब फायर स्टेशन की सुविधा मिलेगी ताकि जरूरत पडऩे पर दमकल स्टाफ और मशीनरी जल्द घटनास्थल पर पहुंचकर राहत कार्य कर सके।
यह जानकारी दी है स्थानीय विधायक और हरियाणा विधानसभा के स्पीकर ज्ञानचंद गुप्ता ने पंचकूला सिटी न्यूज7 के साथ विशेष बातचीत में। उन्होंने कहा कि फायर अफसर शमशेर सिंह मलिक से कहा गया है कि सालों पहले जो चार फायर स्टेशन प्रोपोज किए गए थे, उनकी चिट्ठी-पत्री पूरे रिकॉर्ड के साथ जल्द मुहैया करें, ताकि वे (विधायक) अपने स्तर पर अर्बन डेवलपमेंट मिनिस्टर अनिल विज से बात करके पंचकूला को चार नए फायर स्टेशन की सुविधा दिलाने के लिए वित्त वर्ष 2020-21 के बजट में कुछ पैसों का प्रावधान करवा सकें। ज्ञानचंद गुप्ता ने कहा कि वे पंचकूला का सूरते-हाल बदलने के लिए वचनबद्ध और इसके लिए उनके दिमाग में कई प्रोपोजल्स हैं। उन पर प्राथमिकता के आधार पर काम किया/कराया जा रहा है। मकसद पंचकूला को ‘स्मार्ट सिटी’ बनाना है। गौरतलब है कि पंचकूला में सेक्टर 5 का फायर स्टेशन करीब तीन दशक पहले हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण ने शुरू किया था, तब प्राधिकरण ने दो दमकल वाहन दिए गए थे। बाद में यह नगर निगम के पास आ गया। अब यहां वाहन तो आधा दर्जन से ज्यादा हो गए लेकिन फायर स्टेशन एक ही चल रहा, जबकि शहर कई गुणा फैल चुका है। उस लिहाज से शहर को नए फायर स्टेशन चाहिएं, जोकि अब ज्ञानचंद गुप्ता दिलाने जा रहे हैं।

* शहर को ‘स्मार्ट सिटी’ बनाने की दिशा में शुरू की गई एंटी-एन्क्रोचमेंट ड्राइव आने वाले दिनों में और तेज की जाएगी। इस बारे में कल ही डीसी पंचकूला मुकेश आहुजा और निगम की कमिश्नर सुमेधा कटारिया से बात हुई है। जल्द ही पुलिस बल की मदद लेकर एन्क्रोचमेंट हटाई जाएगी। शहर को साफ-सुथरा बनाए रखने के लिए बहुत जरूरी है कि वेंडर्स सिर्फ निगम की अधिकृत जगहों पर ही काम-धंधा करें।
* जिस तरह एन्टी एन्क्रोचमेंट ड्राइव चलाई गई, बहुत जल्द ही शहर की मार्केटों में दुकानों के बरामदों में से अवैध कब्जे हटाने का अभियान भी शुरू किया जाएगा। बरामदों में कब्जे एचएसवीपी के नियमों के खिलाफ तो हैं ही, ग्राहकों को भी आने-जाने में परेशानी होती है। दुकानदारों को भी चाहिए कि वे नियम-कायदों का पालन कर कब्जे अपने स्तर पर ही हटा लें।
* शहर में डिवाइडिंग रोड्स से लगते बहुत से मकानों में लोगों ने अपनी सुविधा के लिए सड़क की तरफ अवैध दरवाजे खोल रखे जो जल्द ही अभियान चलाकर बंद कराए जाएंगे। ये दरवाजे नियमों के खिलाफ तो खोले गए ही, छोटे-बड़े सड़क हादसों की वजह भी बने हुए हैं। याद दिला दें कि बहुत साल पहले एचएसवीपी ने स्पेशल ड्राइव चलाते हुए ऐसे अवैध दरवाजे बंद कराए थे।
* शहर के पुराने सेक्टरों को क्लस्टर मानते हुए दो-तीन जगह मल्टीलेवल कम्युनिटी पार्किंग बनवाने का विचार है। इसके लिए एचएसवीपी के अधिकारियों से बात कर उचित जगह बताने को कहा गया है। सोच यही है कि घरों के बाहर पार्किंग एरिया की कमी फेस कर रहे लोग अपने वाहन पार्किंग में खड़े कर चैन से रह सकें। इससे सड़कों पर ट्रैफिक का आवागमन भी सुचारु होगा।