केस लगातार बढ़ रहे और आधे-अधूरे प्रयासों से नहीं रुकेगी कोरोना महामारी की गति

पीसीएन7 ब्यूरो , पंचकूला। समाजसेवी संस्था श्री मथुरादास लाजवंती सुभाष हितैषी फाउंडेशन के चेयरमैन भारत हितैषी ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल व गृहमंत्री अनिल विज से आग्रह किया है कि प्रदेश में कोरोना की बढ़ती संख्या पर अंकुश लगाने के लिए नो मास्क-नो एंट्री का कानून बनाया और सख्ती से लागू किया जाए। सभी सार्वजनिक स्थानों, सरकारी और प्राइवेट दफ्तरों, शिक्षण संस्थानों, अस्पतालों व बाजारों में बिना मास्क के एंट्री बैन होनी चाहिए।
भारत हितैषी ने त्यौहारी सीजन के चलते पंचकूला समेत पड़ोसी शहरों (राज्यों) में कोरोना मरीजों की संख्या बढऩे पर गंभीर चिंता जताते हुए कहा कि आम लोगों ने सरकारी नियम-कायों की धज्जियां उड़ाईं और संबंधित प्रशासनिक अधिकारियों ने भी सख्ती नहीं बरती।
उन्होंने मांग की है कि पंजाब सरकार की तर्ज पर हरियाणा में भी निर्देश जारी कर सभी सरकारी बसी में सफर करने वालों के लिए मास्क अनिवार्य किया जाए और ड्राइवर और कंडक्टर को जवाबदेह बनाया जाए। कहीं कोताही हो तो सख्त एक्शन लिया जाना चाहिए।
फाउंडेशन के मुख्य मार्गदर्शक एस.के. शर्मा व मुख्य सलाहकार प्रो. बी.के. गुप्ता ने कहा कि अगर आम जनता मास्क लगाने व दो गज की दूरी का सही पालन करे तो खतरनाक महामारी से बहुत हद तक बचा जा सकता है। भारत हितैषी ने कहा कि बहुत गंभीर चिंता का विषय है कि पंचकूला जिले में अब तक ११ हजार ६०० पाजिटिव केस आ चुके और १२७ बेशकीमती जानें जा चुकी हैं। फाउंडेशन के प्रोजेक्ट डायरेेक्टर अमित गुप्ता, सुभाष शर्मा, मार्गदर्शक एन.के. खोसला, एस.के. वर्मा और सीएल धमीजा ने पंचकूलावासियों से अपील की है कि कोरोना के मद्देनजर घरों से बाहर तभी निकले जब बहुत जरूरी हो। बाहर निकले तो मास्क जरूर लगाएं और दो गज की दूरी का भी पालन करें। उन्होंने कहा कि अगर किसी को बिना मास्क के या मास्क को ठोड़ी पर लगाए देखें तो जरूर प्यार से समझाएं कि जब तक वैक्सीन नहीं आती, मास्क की वैक्सीन के समान है। भारत हितैषी ने जिले के डीसी व डीसीपी समेत अन्य संबंधित अधिकारियों से आग्रह किया है कि अपने-अपने दफ्तरों में नो मास्क-नो एंट्री का बैनर लगाते हुए जागरुकता अभियान की शुरुआत करें, इसके अच्छे नतीजे मिलेंगे।