बदलते मौसम में शरीर आसानी से किसी भी तरह के फ्लू की चपेट में आ जाता है. कमजोर इम्यूनिटी वाले लोग आसानी से वायरस का शिकार हो जाते हैं. ऐसे में शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए खान-पान का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है. कोराना वायरस की चपेट में आने वाले ज्यादातर लोग भी वहीं हैं जिनका इम्यूनिटी सिस्टम कमजोर है, जो कि बच्चों और बुजुर्गों में आम तौर पर देखा जाता है. आइए जानते हैं कि कौन से फूड शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का काम करते हैं.

खट्टे फल- अधिकतर रोगों में डॉक्टर मरीज को  सिट्रस फ्रूट्स यानी खट्टे फल खाने की सलाह देते हैं. विटामिन सी इम्यून सिस्टम बढ़ाता है और कोल्ड-कफ से लड़ने के लिए शरीर को मजूबत बनाता है. सिट्रस फ्रूट्स में अंगूर, संतरे, कीनू,नींबू आते हैं. इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आपको इन फलों का नियमित सेवन करना चाहिए.

लाल शिमला मिर्च- खट्टे फलों की तुलना में लाल शिमला मिर्च दोगुना विटामिन सी होता है. इसमें प्रचुर मात्रा में बीटा कैरोटीन भी पाया जाता है. इम्यून सिस्टम बढ़ाने के अलावा, विटामिन सी त्वचा को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करता है. बीटा कैरोटीन आपकी आंखों को सही रखता है.

ब्रोकली- ब्रोकली में ब्रोकली में विटामिन A, C और E के साथ-साथ कई अन्य एंटीऑक्सिडेंट और फाइबर भी पाए जाते हैं. ब्रोकोली सबसे सेहतमंद सब्जियों में से एक है. इसमें प्रोटीन, कैल्शियमस कार्बोहाइड्रेट और कई दूसरे पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं.

अदरक- अदरक में भई कई तरह के एंटी वायरल तत्व पाए जाते हैं. इसलिए अपने खाने-पीने की चीजों में इसे जरूर शामिल करें. सौंफ या शहद के साथ इसका सेवन करने से इसके परिणाम ज्यादा बेहतर होंगे. दिन में 3-4 बार अदरक का सेवन करने से आपका इम्यून सिस्टम अच्छा रहेगा.

लहसुन- लहसुन में भी कई तरह के एंटी वायरल तत्व पाए जाते हैं. सूप या सलाद के अलावा आप इसे कच्चा भी खा सकते हैं. एक चम्मच शहद के साथ लहसुन का सेवन आपके इम्यूनिटी सिस्टम को बूस्ट करने का काम करता है.

लहसुन- लहसुन में भी कई तरह के एंटी वायरल तत्व पाए जाते हैं. सूप या सलाद के अलावा आप इसे कच्चा भी खा सकते हैं. एक चम्मच शहद के साथ लहसुन का सेवन आपके इम्यूनिटी सिस्टम को बूस्ट करने का काम करता है.

लहसुन- लहसुन में भी कई तरह के एंटी वायरल तत्व पाए जाते हैं. सूप या सलाद के अलावा आप इसे कच्चा भी खा सकते हैं. एक चम्मच शहद के साथ लहसुन का सेवन आपके इम्यूनिटी सिस्टम को बूस्ट करने का काम करता है.