नगर निगम के विकास कार्यों की समीक्षा बैठक में विस अध्यक्ष ने दिखाई सख्ती

पंचकूला, 7 जुलाई- पंचकूला जिले के विकास कार्यों में लेटलतीफी करने वाले ठेकेदारों पर बड़ी गाज गिरने जा रही है। विधानसभा अध्यक्ष एवं पंचकूला से विधायक ज्ञान चंद गुप्ता ने काम लटकाने वाले ठेकेदारों के लाइसेंस रद्द करने को कहा है। गुप्ता ने विकास कार्यों की समीक्षा के लिए नगर निगम के अधिकारियों के साथ बैठक की। इस दौरान निगम के तहत आने वाले गांवों में बनने वाले प्रवेश द्वारों की प्रगति रिपोर्ट मांगी तो अनेक खामियां नजर आईं। इस पर ज्ञान चंद गुप्ता ने कहा कि विकास कार्यों में जनता के खून पसीने की कमाई लगती है, इसलिए इन कार्यों में बिना वजह देरी करने वालों को बख्शा नहीं जा सकता। 

बैठक में बरसाती पानी की निकासी के लिए रोड गलियों के टेंडर जारी करने के भी निर्देश दिए। बता दें कि कोविड 19 की पूर्णबंदी के कारण इस कार्य के लिए अभी तक टेंडर नहीं हो सके थे। अब चूंकि मानसून सिर पर है, इसलिए विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि जल्द से जल्द रोड गलियों के टेंडर कर इनकी सफाई का काम पूरा किया है। उन्होंने कहा कि शहर के किसी भी क्षेत्र में जलभराव की समस्या नहीं होनी चाहिए।

इस प्रकार गुप्ता ने नगर निगम के अंतर्गत आने वाले 8 गांवों में सीवरेज डालने के कार्य में भी तेजी लाने के आदेश दिए। उन्होंने कहा कि इन गांवों में से सकेतड़ी और रामगढ़ में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट भी लगाए जाने हैं। ये विकास कार्य अमृत योजना के तहत किए जाने हैं।

विधानसभा अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री घोषणा के तहत शहर में होने वाले विकास कार्यों की भी समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों से सेक्टर 18, 17, 16 के पास से गुजरते नाले के लंबित कार्य का कारण पूछा। इसके साथ ही उन्होंने माता मनसा देवी परिसर में बनने वाले संस्कृत गुरुकुल, पुरातत्व संग्रहालय, डिजीटल पुस्तकालय की जानकारी भी मांगी। इन कार्यों की प्रगति रिपोर्ट से असंतुष्ट विधानसभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने मुख्यमंत्री घोषणाओं के क्रियान्वयन से संबंधित अतिरिक्त मुख्य सचिव टीसी गुप्ता को फोन कर यह मामला उनके संज्ञान में लाया।

सेक्टर 7 और 10 में सामुदायिक केंद्रों के पुनर्निर्माण कार्यों की प्रगति रिपोर्ट की भी समीक्षा की। इन कार्यों को सिरे चढ़ाने के लिए ज्ञान चंद गुप्ता ने बैठक के दौरान ही स्थानीय निकाय विभाग के महानिदेशक अमित अग्रवाल को फोन किया। उन्होंने कहा कि इन कार्यों में देरी होने से शहरवासियों को असुविधा हो रही है। बता दें कि सेक्टर 7 और 10 के सामुदायिक केंद्र दशकों पुराने हैं, जिस कारण वे खंडहर में तबदील होना शुरू हो गए है। इन दोनों केंद्रों का पुनर्निर्माण किया जाना है।

ज्ञान चंद गुप्ता ने पंचकूला शहर में बनने वाले 6 प्रवेश द्वारों पर प्रगति रिपोर्ट भी मांगी। उन्होंने नगर निगम के अधिकारियों को हिदायत दी कि शहर के सौंदर्यकरण को प्राथमिकता दें। उन्होंने कहा कि शहर में मुख्य 9 चौराहें हैं, इनके रखरखाव में किसी तरह की कमी न आने दें। उन्होंने कहा कि इन चौराहों पर सुबह शाम दोनों वक्त लाइटिंग और फव्वारें तय मानकों के अनुसार चलने चाहिए। बैठक में नगर निगम के आयुक्त महावीर सिंह, कार्यकारी अधिकारी जरनैल सिंह, संयुक्त आयुक्त संयम गर्ग, अधीक्षक अभियन्ता विजय गोयल, कार्यकारी अभियन्ता अंकित लोहान, उपमंडल अधिकारी अशोक गुप्ता और हरेंद्र सैनी मौजूद रहे।

जल्द मिलेगा लावारिस कुत्तों से छुटकारा

पंचकूला वासियों को जल्द ही स्ट्रे डॉग की समस्या से निजात मिलने वाली है। विधानसभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने नगर निगम के अधिकारियों के साथ बैठक कर सुखदर्शनपुर में बन रहे लावारिस कुत्तों के लिए आवास निर्माण को जल्द पूरा करने के निर्देश दिए। इस पर नगर निगम के अधीक्षक अभियन्ता विजय गोयल ने बताया कि उक्त निर्माण कार्य 70 फीसदी पूरा हो चुका है। अगले दो माह इसे चालू कर दिया जाएगा। इसके बाद शहर में घूम रहे कुत्तों का वहां रख-रखाव किया जा सकेगा और शहरवासियों से इस समस्या से निजात मिल जाएगी।